🙏🏻सदगुरु ओशो की वाणी - वह भी 64 kbps में, ताकि आपके फोन में बहुत कम मेमोरी में ज्यादा एल्बम समा सकें.. ओशो के कुछ चुनिंदा एल्बम, सबकी लिंक नीचे दी गई है.🙏🏻
.
अजहूं चेत गंवार.... अज्ञात की ओर.... अथातो भक्ति जिज्ञासा.... अध्यात्म उपनिषद..
अनंत की पुकार... अनहद में विश्राम ... अपने माहिं टटोल... अमी जरत बीगसत कंवल...
अमृत की दशा.... अमृत वर्षा.... अष्टावक्र महागीता... उडियो पंख पसार...
उत्सव आमार जाति आनंद आमार गोत्र.. उपासना के क्षण... एक एक कदम.... एक ओंकार सतनाम....
एक नया द्वार.... एस धम्मो सनंतनो... कठोपनिषद.... कन थोड़े कंकड़ घने....
करुणा और क्रांति.... कहे कबीर दीवाना... कहे कबीर मैं पूरा पायो... कहे वाजिद पुकार...
का सोवे दिन रोने... कानों सुनी झूठ सब.... काहे होत अधीर... कृष्ण स्मृति...
कैवल्य उपनिषद्.... कोपले फिर फूट आई.... क्या ईश्वर मर गया है.... क्या कहूं उस देश की...
क्या सोवे तु बावरी.... गहरे पानी पैठ... गांधीवाद एक और समीक्षा.. गीता दर्शन 01-02...
गीता दर्शन 03.... गीता दर्शन 04... गीता दर्शन 05.... गीता दर्शन 06...
गीता दर्शन 07... गीता दर्शन 08... गीता दर्शन 09... गीता दर्शन 10...
गीता दर्शन 11... गीता दर्शन 12.... गीता दर्शन 13... गीता दर्शन 14...
गीता दर्शन 15.... गीता दर्शन 16... गीता दर्शन 17... गीता दर्शन 18...
गुरु प्रताप साध की संगति.. चित चकमक लागे नहीं.... चेती सके तो चेत .... जगत तरैया भोर की...
जरत दश हु दिस मोती... जस पनिहार धरे सिर गागर... जिन खोजा तिन पाया... जीन सूत्र...
जीवन की खोज.... जीवन क्रांति के सूत्र.. जीवन दर्शन... जीवन रहस्य....
जीवन संगीत... जीवन ही है प्रभु... जो घर बारे आपना... जो बोले तो हरि कथा...
ज्यो था त्यो ठहराया ... ज्यों की त्यों धरि दीन्ही चदरिया... ज्योति से ज्योति जले... ज्योतिष अद्वैत का विज्ञान...
झुक आई बदरिया सावन की... तमसो मा ज्योतिर्गमय... ताओ उपनिषद.... तुश्रणा गई एक बूंद से...
दरिया कहे शब्द निर्वाण... दीपक बारा नाम का.... दीया तले अंधेरा.... देख कबीरा रोए....
धर्म और आनंद.... धर्म की यात्रा.... धर्म साधना के सूत्र.... ध्यान दर्शन ....
ध्यान सूत्र.. नेति नेति नीति नीति.... पथ प्रेम को अटपटो... पद घुंघरू बांध..
पिया को खोजन मैं चली... पीर अमृत बंद पडी... पीव पीव लगी प्यास... पीवत रामरस लगी खुमारी...
प्रभु मंदिर के द्वार पर... प्रीतम छबी नेनं बरसे... प्रेम गंगा... प्रेम दर्शन...
प्रेम नदी के तीरा.... प्रेम पंथ ऐसो कठिन.... प्रेम रंग रस ओढ़े चुनरिया.... प्रेम हैं द्वार प्रभु का ....
बहु तेरे है घाट... बहुरि न ऐसा दांव ... बिन घन परत फुहार... बिन बाती बिन तेल....
बिरहानी मंदिर दियाना बार... भक्ति सूत्र.... भज गोविंदम.... भारत का भविष्य....
महावीर मेरी दृष्टि में... योग नए आयाम... रहिमन धागा प्रेम का.... राम दुआरे जो मरे....
लगऩ मुहरत झूठ सब.... विज्ञान धर्म और कला... व्यस्त जीवन में ईश्वर की खोज... शिक्षा और धर्म....
शिक्षा में क्रांति.... शिव सूत्र.... शुंन्य समाधि... शुन्य के पार....
संतो मगन भयो मन मेरा... संबोधि के क्षण... संभोग से समाधि की ओर... सत्य की प्यास...
सपना ये संसार... समाधि कमल..... समाधि के द्वार पर.... समाधि के सप्त द्वार....
समुद्र समान बूंद में.... सहज आशिकी नाही... सहज मिले अविनाशी... सहज योग....
सहज समाधि भली... साक्षी की साधना.... साधना पथ (अंतर्यात्रा) साधना पथ (पथ की खोज)
साधना पथ (प्रभु की पगडंडियां) साहिब मिले साहिब भावे.... सुख और शांति.... सुनो भाई साधु....
सुमिरन मेरा हरि करे.... स्वयं की सत्ता.... स्वर्ण पाखी था जो कभी... हंसा तो मोती चुगे ....
मन ही पुजा मन ही धुप...
इन बेहतरीन सभी प्रवचन को....... 64kbps में आप whatsapp, facebook, ओशो ग्रुप में शेयर करें .....